शनिवार, 13 मार्च 2010



आज निदा फ़ाज़ली की रचना डाल रही -------------




जो मिला खुद को ढूंढता ही मिला


हर जगह कोई दूसरा ही मिला




गम नही सोता आदमी की तरह


नीँद में भी ये जागता ही मिला




खुद से ही मिल के लौट आये हम


हमको हर सिम्त आइना ही मिला




जब से गोया हुई है ख़ामोशी


बोलना वाला बेसदा ही मिला




हर थकन का फरेब है मंजिल


चलने वालो को रास्ता ही मिला


.................................................................


निदा फ़ाज़ली

16 टिप्‍पणियां:

राज भाटिय़ा ने कहा…

फ़ाज़ली साहब की इस सुंदर गजल के लिये आप का धन्यवाद

M VERMA ने कहा…

गम नही सोता आदमी की तरह
नीँद में भी ये जागता ही मिला ।
सुन्दर प्रस्तुति

दीपक 'मशाल' ने कहा…

Nida sahab ki gazal aur khaskar nazmon ke to hum bhii mureed hain.. aabhar aapka..

Ashish (Ashu) ने कहा…

अति सुन्दर प्रस्तुति.
बहुत सुंदर शव्दो से सजाया है आप ने इस सुंदर गजल को.बहुत सुंदर
धन्यवाद

Hitesh ने कहा…
इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.
Hitesh ने कहा…

Great lines of Nida Fazlee. Thanks for presentation.

शाहिद मिर्ज़ा ''शाहिद'' ने कहा…

निदा साहब का उम्दा कलाम पढ़वाने के लिये बहुत बहुत शुक्रिया ज्योति जी.
उन्हीं का एक शेर याद आ रहा है-
हर आदमी में होते हैं दस-बीस आदमी
जिसको भी देखना हो, कई बार देखना.

संजय भास्कर ने कहा…

गम नही सोता आदमी की तरह
नीँद में भी ये जागता ही मिला ।
सुन्दर प्रस्तुति

संजय भास्कर ने कहा…

अति सुन्दर प्रस्तुति.

psingh ने कहा…

nida sahab ke bare me kya kahne
behtarin gajal

सतीश सक्सेना ने कहा…

बहुत बढ़िया प्रस्तुति ! बहुत दिन बाद पढ़ा है इनको ! आपको शुभकामनायें !

शरद कोकास ने कहा…

रास्ता चलने वालों को ही मिलता है । बधाई ।

VIJAY TIWARI " KISLAY " ने कहा…

ज्योति जी
सादर अभिवंदन
निदा जी की ग़ज़ल पढवा कर आपने पाठकों के लिए सार्थक काम किया है.
आभार.
- विजय तिवारी " किसलय "

Babli ने कहा…

गम नही सोता आदमी की तरह
नीँद में भी ये जागता ही मिला ।
खुद से ही मिल के लौट आये हम
हमको हर सिम्त आइना ही मिला ।
अत्यंत सुन्दर पंक्तियाँ! बेहतरीन प्रस्तुती! बधाई!

ज्योति सिंह ने कहा…

bahut bahut aabhaari aap sabhi ki ,mujhe bhi nida ji gazal nazm bahut pasand hai isliye aap logo ke sang baanti .shahid ji aapko bhi shukriyaan itni sundar pantiyaan pesh ki ,galib tere andaaje byan kuchh aur hai .

SR Bharti ने कहा…

bahut sunder ,
Chalne wale ko hi rashta mila
sarthak abhibyakti. Badhai