शुक्रवार, 18 जून 2010

दिल की दहलीज़ पे यादो के दिए रक्खे है


दिल की दहलीज़ पे यादो के दिए रक्खे है
आज तक हमने ये दरवाजे खुले रक्खे है

इस कहानी के वो किरदार कहाँ से लाऊं
वही दर्या है ,वही कच्चे घड़े रक्खे है

हम पे जो गुजरी , बताया , बतायेंगे कभी
कितने ख़त अब भी तेरे नाम लिखे रक्खे है

आपके पास खरीदारी की कुव्वत है अगर
आज सब लोग दुकानों में सजे रक्खे है
...............................................................
रचनाकार -----------बशीर 'बद्र '
उजाले अपनी यादों के हमारे साथ रहने दो
जाने किस गली में जिंदगी की शाम हो जाये । ।
इस मशहूर शेर को कहने वाले आप ही है ,आपको कौन नही जानता ,आप को किसी और पहचान की जरूरत नही ,एक नाम ही काफी है

17 टिप्‍पणियां:

वाणी गीत ने कहा…

इस कहानी के वो किरदार कहाँ से लाऊं
वही दर्या है ,वही कच्चे घड़े रक्खे है ...
वही दरिया है , वही कच्चे घड़े हैं ...सोहनी महिवाल से किरदार मगर कहाँ है ...
आपके पास खरीदारी की कुव्वत है अगर
आज सब लोग दुकानों में सजे रक्खे है ...

आभार ...!!

राज भाटिय़ा ने कहा…

आप का धन्यवाद इन सुंदर गजलो को हम तक पहुचाने के लिये

Mukesh Kumar Sinha ने कहा…

sundar gajal..........:)

Voice Of The People ने कहा…

दिल की दहलीज़ पे यादो के दिए रक्खे है
आज तक हमने ये दरवाजे खुले रक्खे है ।
बहुत खूब कहा है.

adwet ने कहा…

आपका संग्रह लाजवाब है। बहुत खूब।

Tripat "Prerna" ने कहा…

wah wah behetarien...

log on http://doctornaresh.blogspot.com/
m sure u will like it !!!

Suman ने कहा…

nice

Dev ने कहा…

Ujale apni yadon ke hamre satha rahane do ...na jane kis gali me jindagi ki sham ho jaye...
Mai bachpan se aap ka fan raha hoo...Regards

Lines Tell the Story of Life "Love Marriage Line in Palm"

Babli ने कहा…

बहुत ही सुन्दर और लाजवाब ग़ज़ल रहा! बढ़िया लगा!

शारदा अरोरा ने कहा…

इस कहानी के वो किरदार कहाँ से लाऊं
वही दर्या है ,वही कच्चे घड़े रक्खे है
आपके पास खरीदारी की कुव्वत है अगर
आज सब लोग दुकानों में सजे रक्खे है ।
in dono sheron se kitna dard tapak rahaa hai ...jaise shayar ke sath ham bhi inhen jee aaye hon .

Tripat "Prerna" ने कहा…

bahut hi sunder


http://liberalflorence.blogspot.com/
http://sparkledaroma.blogspot.com/

hem pandey ने कहा…

'आपके पास खरीदारी की कुव्वत है अगर
आज सब लोग दुकानों में सजे रक्खे है ।.
- जो इन दुकानों पर उपलब्ध नहीं, वे कबाड़खाने में पड़े हैं.

शरद कोकास ने कहा…

बद्र साहब की एक अच्छी रचना

रश्मि प्रभा... ने कहा…

हम पे जो गुजरी ,न बताया , न बतायेंगे कभी
कितने ख़त अब भी तेरे नाम लिखे रक्खे है ।
waah

Ashish (Ashu) ने कहा…

अंतर्द्वन्द दिखाने वाले का अंतर्द्वन्द
शानदार रचना

आशीष/ ASHISH ने कहा…

ज्योति जी,
नमस्ते!
बशीर साब से कभी मिले तो नहीं पर ये सोच के खुश हो लेते हैं के मेरे शहर मेरठ से ताल्लुक रखते हैं!
.............ना जाने किस मोड़ पर ज़िंदगी की शाम आ जाये!
आभार!

Maria Mcclain ने कहा…

interesting blog, i will visit ur blog very often, hope u go for this website to increase visitor.Happy Blogging!!!