मंगलवार, 1 दिसंबर 2009

मैं आज शहरयार की ग़ज़ल लिख रही हूँ ,शायद आप सभी उन्हें पढ़े होंगे -----


तुम्हारे शहर में कुछ भी हुआ नही है क्या

कि तुमने चीखों को सचमुच सुना नही है क्या


तमाम खल्क -ए-खुदा इस जगह रुकी क्यो है

यहाँ से आगे कोई रास्ता नही है क्या


लहू -लुहान सभी कर रहे है सूरज को

किसी को खौफ यहाँ रात का नही है क्या


मैं एक ज़माने से हैरान हूँ कि हाकिम - -शहर

जो हो रहा है उसे देखता नही है क्या


उजाड़ते है जो नादाँ इसे उजड़ने दो

कि उजड़ा शहर दोबारा बसा नही है क्या

9 टिप्‍पणियां:

ज्योति सिंह ने कहा…

तुम्हारे शहर में कुछ भी हुआ नही है क्या
कि तुमने चीखों को सचमुच सुना नही है क्या ।
wah laazwaab hai ,itni badi baat kitni khoobsurti se jaahir ho gayi ye to un mahan shayar ka hi kamaal hai .jo apni hunar hame virasat me de gaye ,mera salaam hajar baar in shayro ko

राज भाटिय़ा ने कहा…

बहुत सुंदर गजल. धन्यवाद

डॉ.पदमजा शर्मा ने कहा…

वे रचनाएँ कालजयी हो पाती हैं,.जो अपने वक्त के साथ ही आने वाले वक्त को भी ठीक ठीक देख पाती हैं .
अगर इन शायरों के साथ इनका समय भी दिया जाए तो ब्लॉग और समृद्ध होगा , पठनिए होगा .

Devendra ने कहा…

बेहतरीन गज़ल पढ़ाने के लिए धन्यवाद।

प्रबल प्रताप सिंह् ने कहा…

तमाम खल्क -ए-खुदा इस जगह रुकी क्यो है

यहाँ से आगे कोई रास्ता नही है क्या ।
bahut sundar gazal.

JHAROKHA ने कहा…

उजाड़ते है जो नादाँ इसे उजड़ने दो

कि उजड़ा शहर दोबारा बसा नही है क्या
Bahut hee umda.Shaharyar ji kee itanee khoobasurat rachana padhvane ke liye hardik abhar.
Poonam

निर्मला कपिला ने कहा…

एक एक शेर काबिले तारीफ है धन्यवादिस गज़ल को पढवाने के लिये

KAVITA RAWAT ने कहा…

उजाड़ते है जो नादाँ इसे उजड़ने दो
कि उजड़ा शहर दोबारा बसा नही है क्या ।
Bahut achhi Gajal prastuti ke liye dhanyavaad.

अल्पना वर्मा ने कहा…

लहू -लुहान सभी कर रहे है सूरज को
किसी को खौफ यहाँ रात का नही है क्या ।
waah!
umda!
bahut achhcee gazal padhwayee...

main ne pahle nahin padhi thi.