सोमवार, 5 अप्रैल 2010

छोटी -छोटी दो रचनाये



और ठुकराओ


हम ठोकर बहुत खाये हुए है


मन मेरा मुरझा गया


पर होंठ मुस्काये हुए है


हम मसीहा मौत के खुद बन गये


इसलिए


जिंदगी के क्राँस पर मुद्दत से


लटकाये हुए है


,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,


हँसते -हँसते आज क्यों रोने लगे है लोग


अस्तित्व अपने आप क्यों खोने लगे है लोग ,


रात भर तो वो सूरज को ढूंढते रहे


सुबह हुई तो फिर क्यों सोने लगे है ये लोग


..................................................................

16 टिप्‍पणियां:

Udan Tashtari ने कहा…

रात भर तो वो सूरज को ढूंढते रहे
सुबह हुई तो फिर क्यों सोने लगे है ये लोग

बहुत खूब!

राज भाटिय़ा ने कहा…

दोनो कविताये बहुत सुंदर लगी जी

Shekhar kumawat ने कहा…

bahut sundar rachna
baki tarif Udan Tashtari ji ne kar di

shekhar kumawat

http://kavyawani.blogspot.com/

संजय भास्कर ने कहा…

ग़ज़ब की कविता ... कोई बार सोचता हूँ इतना अच्छा कैसे लिखा जाता है .

Suman ने कहा…

nice

KAVITA RAWAT ने कहा…

और न ठुकराओ
हम ठोकर बहुत खाये हुए है ।
मन मेरा मुरझा गया
पर होंठ मुस्काये हुए है ।
Kabhi-kabhi vikat prasthitiyon mein bhi hoton par muskan barkarar rakhana hi padhta hai....

हम मसीहा मौत के खुद बन गये
इसलिए जिंदगी के क्राँस पर मुद्दत से
लटकाये हुए है ।
kahin n kahin to kuch galtiyon ke liy hum hi jimedaar rahate hain....

Jindagi ke gahre bhav.....
Bahut shubhkamnyen

manav vikash vigyan aur adytam ने कहा…

vaah khoob

JHAROKHA ने कहा…

dono hi rachnaye behad khoobsurat lagi-----bahut khoob.

kunwarji's ने कहा…

"और न ठुकराओ
हम ठोकर बहुत खाये हुए है ।
मन मेरा मुरझा गया
पर होंठ मुस्काये हुए है । "

vaastavikta si dikhaati rachnaaye dono hi.....

kunwar ji,

Babli ने कहा…

बहुत ख़ूबसूरत कविताये लिखा है आपने जो काबिले तारीफ़ है! लाजवाब प्रस्तुती! बहुत बहुत बधाई!

बेचैन आत्मा ने कहा…

दूसरी कविता बहुत अच्छी लगी.

Indranil Bhattacharjee ........."सैल" ने कहा…

वाह जी वाह ... बहुत सुन्दर रचना है दोनों ही ... खास कर दूसरी कविता बहुत अच्छी लगी !

sangeeta swarup ने कहा…

बहुत अच्छी प्रस्तुति है....रचनाकार का नाम भी लिख दें तो बहुत अच्छा रहेगा

शाहिद मिर्ज़ा ''शाहिद'' ने कहा…

दोनों रचनाएं बहुत अच्छी रहीं

हँसते -हँसते आज क्यों रोने लगे है लोग
अस्तित्व अपने आप क्यों खोने लगे है लोग...

इस शेर पर ढेर सारी दाद कबूल फ़रमायें

JHAROKHA ने कहा…

behad khoobsurat post badhai.

poonam

anjana ने कहा…

सुन्दर रचना....